Site icon smachaar.com

Haryana-Punjab सीमा पर किसानों और पुलिस के बीच झड़प

Haryana-Punjab सीमा पर किसानों और पुलिस के बीच झड़प

Haryana-Punjab सीमा पर तनाव एक नये स्तर पर पहुंच गया है, जहां किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। वारदात इसलिए हुई क्योंकि किसानों ने दिल्ली की ओर आगे बढ़ने की कोशिश की। उनकी विभिन्न मुद्दों पर न्यायिक गारंटी और लागत समर्थन मूल्य (MSP) की मांग है।

तनाव बढ़ता हुआ: किसानों का हिंसक प्रदर्शन

न्याय की मांग: किसानों की MSP पर गारंटी की मांग

शम्भू सीमा पर किसान झंडे लेकर MSP और फसल विविधीकरण जैसे विभिन्न मुद्दों पर कानूनी गारंटी की मांग करते हुए दिल्ली की ओर मार्च कर रहे थे। स्थिति तब हिंसक हो गई जब पुलिस ने किसानों को रोकने के लिए तेज़ गैस की शैलों का इस्तेमाल किया, जब केंद्र सरकार के साथ MSP और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर वार्ता असफल रही।

नई बातचीत: सरकार ने किसानों से संपर्क किया

Harayana-Punjab बार्डर पर तनाव बढ़ने के बीच, केंद्र सरकार ने किसानों के साथ MSP और फसल विविधीकरण जैसे मुद्दों पर सहमति के मामले में नई चर्चा प्रस्तावित की। मंत्री अर्जुन मुंडा जो पिछले चर्चाओं का हिस्सा थे ने सरकार की यह प्रस्तावना दोहराई।

शांति के लिए आवाज: संयम की अपील की

तनाव बढ़ने के साथ, प्राधिकरणों ने शांतिपूर्ण समाधान की अपील की है और Haryana-Punjab के निवासियों से कानूनी निकायों के साथ सहयोग की अपील की है। Haryana-Punjab सीमा पर हजारों किसानों के इकट्ठा होने के साथ, शांतिपूर्ण समाधान की आवश्यकता और भी अधिक आवश्यक हो गई है।

समाधान की राह: शांतिपूर्ण प्रदर्शन की मांग

Haryana-Punjab बार्डर पर प्रदर्शन की फिर से शुरुआत से पहले किसान मजदूर मोर्चा के नेताओं ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने की पुनः प्रतिबद्धता जताई, सरकार से बैरिकेडों को हटाने और दिल्ली की ओर अवरोधित मार्ग को खोलने की मांग की। शांतिपूर्ण समाधान की दिशा में कदम बढ़ाने के लिए, उन्होंने वार्ता के लिए अपनी प्रतिबद्धता को पुनः पुष्टि की है और समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील की

हिंदी में राजनीति और अन्य देश से जुड़ी खबरें सबसे पहले समाचार.कॉम पर पढ़ें.

Exit mobile version